2 Sep 2017

इस कदर हम यार को मनाने निकले....

इस कदर हम यार को मनाने..


इस कदर हम यार को मनाने निकले
उसकी चाहत के हम दिवाने निकले.
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा,
तो उसके होंठो से वक्त ना होने के बहाने निकले.

 

 

 

 




Is kadar hum yaar ko manane nikle,
Uski chahat ke hum deewane nikle,
Jab bhi use dil ka haal batana chaha,
To uske hothon se waqt na hone ke bahane nikle…

______________________________________

 

आँसु छलकते हैं आँखों से जब तेरा नााम लेता हुँ..

मैने ते हर तो हर लम्हा गुजार दिया तेरी यादें की राहों में

रूलाने को अपनी कहानी काफी है…

Mar jaane par duniya yaad karti hai…..

No comments:

Post a Comment