18 Aug 2017

मोहब्बत का मेरा सफर आख़िरी है


मोहब्बत का मेरा सफर....


मोहब्बत का मेरा सफर आख़िरी है,
ये कागज, कलम ये गजल आख़िरी है
मैं फिर ना मिलूंगा कहीं ढूंढ लेना
तेरे दर्द का ये असर आख़िरी है…!!


 

 

 

 

 

 

 

 


Mohabbat ka mera safer aakhiri hai,
Ye kagaz kalam ye gajal aakhiri hai.
Main fir na milunga kahin dhundh lena,
Tere dard ka ye asar aakhiri hai.


 

Read best sayeri in one click-

देना ही था तो मौत दे दिया होता बेवफाई की जगह..

किसी के दुर रहने से मोहब्बत कम नहीं होती !!! Hindi two line sayeri

Aayiye hum aapke liye mahfil sajaaye baithe hai

Isaara kyu kiya jab aana hi nahi thaa

No comments:

Post a Comment